मासिक धर्म (Periods)

लगभग 42 करोड़ महिलाओं के अभी पीरियड्स चल रहें होगें और अगर ये सब की सब बिस्तर पकड़ के बैठ गई तो फिर चल ली दुनिया। तो ये ख्याल अपने दिल से निकल दो की औरतों के लिए आसान होता है।

लगभग 42 करोड़ महिलाओं के अभी पीरियड्स चल रहें होगें और अगर ये सब की सब बिस्तर पकड़ के बैठ गई तो फिर चल ली दुनिया। तो ये ख्याल अपने दिल से निकल दो की औरतों के लिए आसान होता है।

किसी भी समय लगभग 17 प्रतिशत महिलायें अपने पीरियड्स मे होती हैं। पीरियड्स का मतलब सिर्फ खून का बह जाना ही है इस समय उनके हार्मोन्स भी असंतुलित होते है। ओर ऐसे मे कई काम होते है जो उन्हे करने ही पड़ते है। इस समय लगभग 2.5 बिलियन औरते 14 से 50 साल के बीच की है। उनमे से लगभग 42 करोड़ के अभी पीरियड्स चल रहें होगें और अगर ये सब की सब बिस्तर पकड़ के बैठ गई तो फिर चल ली दुनिया। तो ये ख्याल अपने दिल से निकल दो की औरतों के लिए आसान होता है।

Periods cramp कब ज्यादा होते हैं?

उसके कुछ कारण नीचे दिए है:-

  • जब पीरियड्स के दौरान काफी खून बहता है।
  • अगर पीरियड के दर्द का पारिवारिक इतिहास है तो।
  • युवावस्था की शुरुआत 11 या उससे पहले हो जाए।

वो महिलाएं भाग्यशाली होती हैं जिनको अपने पीरियड्स के दौरान पेट के निचले हिस्से में दर्द नहीं होती हैं। हालांकि ऐंठन होना एक स्वाभाविक रूप से पर्याप्त घटना है। मासिक आधार पर महिलाओं को यह बहुत परेशान कर सकता है। हम इस ब्लॉग में आपको cramp से राहत पाने के कुछ तरीके बताएंगे।

cramp से राहत पाने के कुछ तरीके

अपने आहार में पर्याप्त सब्जियां ले।

मासिक धर्म में ऐंठन का अनुभव करने वाली महिलाओं को, अधिक सब्जियां और कम मांस खाना खाना चाहिए। इसके अलावा वनस्पति तेलों के साथ खाना पकाने और प्रोटीन के रूप में अधिक मछली खाने की सलाह दी जाती है।

हर्बल टी आपका सबसे अच्छा दोस्त है

हर्बल चाय मासिक धर्म में ऐंठन के कारण महसूस किए गए दर्द को कम करने में मदद कर सकती हैं। जिन महिलाओं को आमतौर पर ऐंठन का अनुभव होता है तो periods शुरू होने के लगभग सात दिन पहले पुदीने के तेल के साथ चाय पीना शुरू कर सकते हैं।  

हालांकि, हर्बल चाय पीना उन महिलाओं के लिए खतरनाक हो सकता है जो अन्य दवाएं ले रही हैं। मासिक धर्म में ऐंठन को कम करने के लिए इस मार्ग को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से बात करें।

Fish oil या विटामिन बी-1 लें।

यदि आप चिकित्सा कारणों से हर्बल चाय नहीं ले सकते है तो मछली के तेल और विटामिन बी-1 आपकी मदद कर सकते हैं। अध्ययनों से पता चला है कि किशोर लड़कियां जो मछली का तेल या विटामिन बी-1 लेती हैं। तो समय के साथ उनका दर्द कम हो जाता है।

Acupressure और Acupuncture का प्रयास करें

Acupuncture हमारे शरीर में रक्त के प्रवाह को सुचारू करने में मदद करता है यही कारण है कि यह मासिक धर्म के दर्द को कम करने में मदद करता है। इससे period के दौरान आराम मिलता है और ऐंठन भी कम होती है।

Acupressure एक्यूप्रेशर का उपयोग कई स्वास्थ्य संबंधित बीमारियों से राहत के लिए किया जाता है। 2004 के एक अध्ययन के अनुसार, आपके टखने के ऊपर एक बिंदु पर अपनी पिंडली की मांसपेशी पर हलकों को रगड़ने से पीरियड के दर्द से राहत मिल सकती है। ऐसा करने का तरीका है:

1. अपने अंदर की टखने की हड्डी से चार उंगलियों को मापें।

2. दृढ़ता से इस क्षेत्र को कई मिनटों तक रगड़ें।

मालिश

जब महिलाओं को पीरियड क्रैम्प्स आते हैं, तो दिन के सरल कार्य भी पूरे करना मुश्किल हो जाता है। अपनी जांघों और निचले पेट की मालिश करना आपके दर्द के समय को कम कर सकता है।

मैग्नीशियम युक्त आहार लें

स्त्री रोग विशेषज्ञों के अनुसार जिन महिलाओं में मैग्नीशियम की मात्रा अधिक होती है उन्हें पीरियड क्रैम्प की समस्या कम होती है। मैग्नीशियम कई खाद्य पदार्थों में पाया जाता है। जैसे कि बादाम और पालक इत्यादि आपके इनका सेवन करना चाहिए।

एंडोर्फिन को बढ़ावा देने के लिए व्यायाम करें।

एंडोर्फिन न्यूरोट्रांसमीटर हैं जो आपको दर्द से राहत देने में मदद करते हैं और आपके मूड को बेहतर बनाता हैं। आपको अपने शरीर में एंडोर्फिन को बढ़ावा देने के लिए व्यायाम करना होगा। एक अध्ययन में, वैज्ञानिकों ने पाया कि जिन महिलाओं ने सप्ताह में तीन दिन 30 मिनट तक एरोबिक व्यायाम किया था। उनमें पीरियड्स के दर्द में महत्वपूर्ण कमी देखी गई।

हीट पैच का उपयोग करें

अपने पेट पर गर्म पैच का उपयोग करने से आपके गर्भाशय की मांसपेशियों को आराम मिल सकता है। यह मांसपेशियों ही ऐंठन का कारण है। गर्मी आपके पेट में परिसंचरण को भी बढ़ावा देती है।  जिससे दर्द कम हो सकता है।

आप स्थानीय दवा की दुकान और ऑनलाइन heat patch ले सकते हैं। इनको प्रयोग करना भी आसान हैं। बस उन्हें अपने पेट पर चिपका दें।

गर्म बाथटब में बैठें

एक गर्म बाथटब में बैठें जिससे आप अपनी पैल्विक मांसपेशियों को गर्माहट दे सकते हैं। आप अपने नहाने के पानी में lavender या गुलाब जैसे – आवश्यक तेलों की कुछ बूंदों को मिलाकर दर्द-निवारक शक्ति को बढ़ा सकते हैं। अधिक लाभ पाने के लिए कम से कम 15 मिनट के लिए गर्म पानी में आराम करने की कोशिश करें।

पुरुषों को चाहिए की औरतों को समझें

मासिक धर्म वाली महिलाओं के प्रति हमारा दृष्टिकोण विशेष रूप से प्रतिगामी है, हमारी “संस्कृति” में वर्जनाओं का एक अच्छा मिश्रण है, इसलिए भारतीय पुरुषों को पीरियड्स के दौरान महिलाओं को सहज महसूस कराने के लिए कुछ अतिरिक्त प्रयास करने की आवश्यकता है। उनके दर्द को समझना ये मत कहना कि ये कोई बड़ी बात नहीं है, क्योंकि उनके लिए ये बहुत बड़ी बात है। और एक अच्छे साथी के रूप में, आपको उनकी मदद करनी चाहिए।

Thriving Boost
Thriving Boost
Articles: 79
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
3 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
trackback
18 days ago

[…] मासिक धर्म (Periods) झगड़ों से कैसे निपटें और मूड कैसे ठीक करें। […]

trackback

[…] मासिक धर्म (Periods) […]

3
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x