Author name: प्रिया गुप्ता

फूल की सीख

“प्रिया गुप्ता” द्वारा रचित कविता “फूल की सीख”,रह कर कांटों के मध्य भी,ये नहीं कभी शोक मनाते हैं।महकते इसलिए सभी को भाते हैं।

प्रतीक्षा

“प्रिया गुप्ता” द्वारा रचित कविता “प्रतीक्षा”,इक अनकहा सा इंतजार होता है, हालातों में जहाँ। सब कुछ मुश्किल, अनिश्चित और दुश्वार होता है।।

आईना

“प्रिया गुप्ता” द्वारा रचित कविता “आईना”,आईना तो बस नज़र का धोखा हैं। नज़र वही आता हैं जो दिल में होता हैं।।