हॉकी के जादूगर, Major Dhyan Chand

आजादी से पहले भारत की पहचान हॉकी वजह से होती थी। जब हॉकी को ध्यान चंद के नाम से जाना जाता था।

Wizard of hockey

ध्यानचंद के हर्फ़नमोला खेल ने भारतीय हॉकी को नए शिखर पर पहुंचाया था ।

उन्होंने लगातार तीन ओलंपिक (1928 , 1932 और 1936) में भारत को हॉकी का स्वर्ण पदक दिलवाए ।

हॉकी का जादूगर

उनका खेल ऐसा होता था की लोगों को लगता था कि वो हॉकी के ग्राउन्ड मे हॉकी नहीं जादू दिखाया जा रहा है।

Hockey player

हॉकी और ध्यान के बीच मे कुछ ऐसा रिश्ता था। जिससे हर कोई खेल देखने वाला उनका दीवाना बन जाता था।

जिस किसी ने भी इस भारतीय धुरंधर का खेल एक बार देखा वो उनके खेल का कायल हो गया।

29 अगस्त को भारत मे इस महानायक के जन्मदिन को राष्ट्रीय खेल दिवस के रूप मे मनाया जाता है।

शुरुआत से

ध्यानचंद का जन्म 29 अगस्त 1905 को उत्तर प्रदेश के प्रयाग के एक राजपूत परिवार में हुआ था। उनके जन्म के बाद, उनका परिवार झाँसी चला गया, जहाँ ध्यानचंद ने अपना बचपन और अपने जीवन के बाद के अधिकांश वर्ष बिताए।

अपनी प्रारंभिक शिक्षा के बाद, वह 16 साल की उम्र में एक सैनिक के रूप में भारतीय सेना में शामिल हो गए।
हॉकी में कलात्मकता के बीज उनके रेजिमेंट के सूबेदार मेजर तिवारी ने लगाए और उनका पालन पोषण किया।

उपलब्धियां

ध्यानचंद को इस खेल से इतना लगाव था कि वह हर दिन कई घंटे अभ्यास करने और इस खेल में नई तकनीकों को खोजने में बिताते थे।

1928 में एम्स्टर्डम में आयोजित आठवें ओलंपियाड में पहली बार भारतीय टीम ने हॉकी टूर्नामेंट में भाग लिया। भारत ने 3-0 से चैम्पियनशिप जीती। ध्यानचंद ने तीन गोल में से दो गोल किए।

1932 में लॉस एंजिल्स में ओलंपिक, लाल शाह बुखारी की कप्तानी में भारतीय टीम ने फिर से चैम्पियनशिप जीती।


एक बार भारतीय हॉकी टीम विदेशी दौरे पर थी। हमने 48 मैच खेले और उनमें से सभी में जीत हासिल की और ध्यानचंद ने अकेले 400 अंतरराष्ट्रीय और 1000 से अधिक गोल किए ।

Medal for dhyan Chand

अमेरिका की शर्मनाक हार

भारत 20 साल से अपराजेय था। हमने संयुक्त राज्य अमेरिका को एक ओलंपिक मैच में 24 गोल से हराया जो अभी भी एक विश्व रिकॉर्ड है और शायद संयुक्त राज्य अमेरिका की अब तक की सबसे बुरी हार है। ध्यानचंद हॉकी फील्ड और बैटल फील्ड दोनों में INDIA का नेतृत्व करते थे।

मैच रेफरी से बहस

एक बार मेजर ध्यानचंद विपक्षी टीम के खिलाफ गोल नही कर पा रहे थे। तो उन्होंने गोल पोस्ट के माप के संबंध में मैच रेफरी से चर्चा की इस बीच उनकी बहस भी हो गयी। और जब माप लिया गया तो आश्चर्यजनक रूप से ध्यानचंद सही साबित हुए।

ध्यानचंद की हॉकी स्टिक का बदलना


1936 में बर्लिन में आयोजित दसवे ओलंपियाड में ध्यानचंद ने भारतीय टीम की कप्तानी की। भारत ने जर्मनी को 4-1 से हराया। ध्यानचंद ने अपनी हॉकी स्टिक के साथ इस तरह का प्रदर्शन किया, कि बातें होनी तेज हो गई, कि बॉल को आकर्षित करने के लिए उनकी हॉकी स्टिक में एक चुंबक लगा हुआ है। उनकी हॉकी स्टिक को बदलने का आदेश दिया गया था। लेकिन उनके जादू ने दर्शकों को और उनके विरोधियों को मंत्रमुग्ध कर दिया।

हिटलर से मुलाकात

Major Dhyan Chand


ध्यानचंद से हिटलर इतना प्रभावित हुआ कि उसने ध्यानचंद को जर्मनी की सेना में कर्नल के पद देने का मौका दिया, लेकिन उसने मुस्कराते हुए इस प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया ।

‘द विजार्ड ऑफ इंडियन हॉकी’


” ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता केशव दत्त ने कहा, “उनकी असली प्रतिभा उनके कंधों से ऊपर है। उनका हॉकी दिमाग था। वह एक क्षेत्र को देख सकता था।

जिस तरह से एक शतरंज खिलाड़ी बोर्ड को देखता है। वह जानता था कि उसके साथी कहाँ हैं और अधिक महत्वपूर्ण बात यह है कि उसके विरोधी कहाँ हैं – बिना देखे वो ये भी जान लेता है।

रिटायर होने के बाद


भारतीय सेना में 34 साल की सेवा के बाद ध्यानचंद 29 अगस्त 1956 को मेजर के रूप में भारतीय सेना से रिटायर हुए।

1956 मे ही उनको पद्म भूषण से सम्मानित किया।

अंतिम दिन

आजाद भारत में हॉकी और ध्यानचंद हमेशा से उपेक्षित रहे।

Dhyan Chand

ध्यानचंद ने अपने अंतिम दिन अपने गृहनगर झांसी, उत्तर प्रदेश में बिताए।

तभी तो उन्होंने अपने अंतिम साक्षात्कार में कहा था, कि

जब मेरा निधन होगा तो पूरा विश्व रो रहा होगा, लेकिन भारत के लोगों की आंखों से मेरे लिए एक आंसू भी नहीं निकलेगा। मैं अपने देश के लोगों को अच्छी तरह जानता हूं।

अपने अंतिम दिनों में, उनके पास पैसे की कमी थी, लेकिन उन्होंने कभी भी किसी विदेशी टीम को भारतीय टीम को हराने के डर से कोचिंग नहीं दी।

उन्होंने बड़ी संख्या में हॉकी खिलाड़ियों को मार्गदर्शन और कोचिंग दी। उनके बेटे, अशोक कुमार ने उनसे प्रेरित होकर अंतर्राष्ट्रीय हॉकी में भारत का प्रतिनिधित्व करके भारतीय हॉकी में चमक को जोड़ा।

सम्मान में

राष्ट्र ध्यानचंद के जन्मदिन (29 अगस्त) पर अपना राष्ट्रीय खेल दिवस मनाता है, और वह एकमात्र ऐसा हॉकी खिलाड़ी है जिसके सम्मान में डाक टिकट है।


स्पोर्ट्स में लाइफटाइम अचीवमेंट के लिए ध्यानचंद पुरस्कार हॉकी के दिग्गज के नाम पर एक राष्ट्रीय खेल सम्मान है।


नई दिल्ली के राष्ट्रीय स्टेडियम का नाम भी उनके नाम पर रखा गया है और ध्यानचंद की कहानी कई हॉकी खिलाड़ियों के लिए प्रेरणा का काम करती है।


Goal

हॉकी के जादूगर ध्यानचंद की आत्मकथा का शीर्षक “गोल” है, जो 1952 में प्रकाशित हुआ था।


मेजर ध्यानचंद के बारे में रोचक तथ्य

1. ध्यान सिंह केवल 16 साल की उम्र में भारतीय सेना में शामिल हो गए और वहां हॉकी खेलना शुरू कर दिया। चूंकि ध्यान सिंह ने रात के दौरान अभ्यास किया, इसलिए उनके साथी खिलाड़ियों ने उन्हें “चाँद” उपनाम से संबोधित करना शुरू कर दिया।


2. 1936 के बर्लिन ओलंपिक में भारत के पहले मैच के बाद, ध्यानचंद की जादुई हॉकी को देखने के लिए लोगों की भीड़ हॉकी मैदान पर इकट्ठा होने लगी। एक जर्मन अखबार की हेडलाइन थी: ‘ओलंपिक कैंपस में अब एक जादू है।’ अगले दिन, बर्लिन की सड़कों को पोस्टर से भरा गया था, “हॉकी स्टेडियम में जाएं और भारतीय जादूगर का जादू देखें” ।


3. 1936 के ओलंपिक में जर्मनी के साथ एक मैच के दौरान, ध्यानचंद का दाँत टूट गया था जब वह जर्मनी के उग्र गोलकीपर “टिटो वर्नहोल्ट” से टकराया था। प्राथमिक चिकित्सा के बाद मैदान पर लौटते हुए, ध्यानचंद ने अपने खिलाड़ियों को जर्मन खिलाड़ियों को “सबक सिखाने” के उद्देश्य से गोल नहीं करने की सलाह दी। भारतीय खिलाड़ी बार-बार गेंद को जर्मनी के गोलपोस्ट तक ले जाते हैं और फिर से गेंद को अपने दरबार में वापस लाते हैं।


4. 1935 में, जब भारतीय हॉकी टीम ऑस्ट्रेलिया में थी, महान क्रिकेट खिलाड़ी डॉन ब्रैडमैन और महान हॉकी खिलाड़ी ध्यानचंद एडिलेड में एक-दूसरे से मिले थे। ध्यानचंद के खेल को देखने के बाद, डॉन ब्रैडमैन ने टिप्पणी की, “उन्होंने हॉकी में उसी तरह गोल किए जैसे क्रिकेट में रन बनाए जाते हैं।”


5. वियना (ऑस्ट्रिया) के निवासियों ने चार हाथों और चार हॉकी स्टिक के साथ उनकी एक प्रतिमा स्थापित की थी । जो गेंद पर उनके नियंत्रण और महारत का संकेत देती थी। हालाँकि, यह एक अतिशयोक्ति भी हो सकती है क्योंकि वर्तमान में न तो ऐसी कोई मूर्ति है और न ही इससे संबंधित कोई दस्तावेज।


6. एक बार नीदरलैंड में, हॉकी स्टिक के अंदर चुंबक होने की संभावना के कारण अधिकारियों ने ध्यानचंद की हॉकी स्टिक को तोड़ दिया था।

ध्यानचंद विश्व हॉकी के एक महान खिलाड़ी थे उनकी हॉकी में जादू था । वो पुरे विश्व में हॉकी खिलाड़ियों के लिए आदर्श है। उनके जैसा कोई नही है।


ऐसा खेल ‘ध्यान’ खेल गया,
सबके ध्यान में, ‘ध्यान’ रह गया।”

विश्व भर में भारत का नाम रोशन करने वाले हॉकी के उस जादूगर, मेजर ध्यानचंद को कोटि- कोटि नमन।

Thriving Boost
Thriving Boost
Articles: 79
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
trackback

[…] हॉकी के जादूगर, Major Dhyan Chand राइफलमैन, वीरता की गाथा […]

1
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x