लैपटॉप खरीदने से पहले इसे जरूर पढ़ें।


खरीदने से पहले ये तय कर लें कि आप लैपटॉप काा प्रयोग किस काम के लिए करने वाले है?


साधारण प्रयोग के लिए जैसे की टाइपिंग, नेट चलाने के लिए और छोटी मोटी गम्स खेलने के लिए या फिर।
प्रोफेशनल प्रयोग के लिए जैसे की प्रोग्रामिंग, फोटो एडिटिंग, वीडियो एडिटिंग और heavy गेम्स खेलने के लिए।

लैपटॉप की परफॉर्मेंस 5 चीजों पर निर्भर करती है

  • प्रोसेसर
  • RAM
  • इंटरनल मेमोरी
  • बैटरी
  • graphics पर

Processor

अब बात करें processor की तो ये आपके कंप्यूटर का दिमाग है। अगर दिमाग ज्यादा होगा तो कंप्यूटर की काम करने की क्षमता भी ज्यादा होगी।


Processor कितने प्रकार के होते है ।

लैपटॉप के processor ज्यादातर 2 कंपनी ही बनाती है। Intel और AMD 


Intel  series की प्रोसेसिंग शक्ति इस तरह है ।


Atom, pentium, Celeron और कोर i3,i5,i 7 और i 9।
i 9 सबसे ज्यादा शक्तिशाली है।


Atom

इस प्रोसेसर के साथ आप मूवी देख सकते हो, नेट चला सकते हो परन्तु कुछ क्रिएटिव करना चाहते हो तो प्रॉब्लम आ सकती है । ये प्रोसेसर का सबसे नीचे का स्तर है।

Celeron

इसमें मूवी की क्वालिटी अच्छी होगी, ईमेल इत्यादि अच्छे से प्रयोग कर सकते हो। ये ATOM प्रोसेसर से थोड़ा सा उच्च स्तर है।

PENTIUM

मूवी ईमेल के साथ साथ तुम छोटा मोटा प्रोडक्टिव काम कर सकते हो।

i 3 – ये वो सब कुछ कर सकता है जो एक pentium प्रोसेसर करता है साथ ही ये अच्छा hd playback देता है।
i 5 – i 3 के सब कार्य कर सकता है साथ में छोटी गेम्स फोटो एडिटिंग और excel भी अच्छे से चला सकते हो।
i 7 – इसमें i 5 के सभी कार्यों के साथ आप उच्च स्तर की फोटो एडिटिंग, वीडियो एडिटिंग और heavy गेम्स खेल सकते हो।
i 9 – सबसे ज्यादा अच्छी परफॉर्मेंस के साथ साथ आप इसमें कोई भी गेम्स, 3d मॉडलिंग बगेरा सब कर सकते हो।


AMD की प्रोसेसिंग शक्ति इस तरह है


FX और Ryzen
Ryzen AMD का सबसे शक्तिशाली प्रोसेसर है।

AMD में A 4 और A 6 साधारण काम के लिए है जैसे कि मूवी देखना, सोशल मीडिया इत्यादि
A 9, A 10 और A 12 में हम hd में देख सकते है और मल्टीटास्किंग के सकते है।


Ryzen – ये एक उच्च स्तर का प्रोसेसर है जिसमें हम मल्टीटास्किंग, gaming और कुछ भी नया creative कर सकते है।

Memory


RAM

इस में वो सब स्टोर होता है जो तुम लाइव कर रहे हो। जितनी भी खुली हुई application होंगी या आप कोई गेम खेल रहे हो वो RAM में होंगी।
अगर RAM ज्यादा होगी तो एक साथ बहुत सारे काम कर सकते हो।

RAM दो तरह की होती है।
1 DDR 4 : ज्यादा तेज है कम बैटरी का प्रयोग करती है।
2 DDR 3 : ये पुरानी है और धीमी भी है। साथ में ज्यादा बैटरी खर्च करती है।
हमारी आपको ये ही सलाह है की DDR 4 RAM का ही प्रयोग करें। ये आपकी बैटरी की क्षमता को भी बडाएगी।
DDR 3 सस्ती जरूर है परन्तु धीमी है और उसे हम UPGRADE भी नहीं कर सकते।

समय के साथ साथ एप्लिकेशन और ऑपरेटिंग सिस्टम के नए वर्जन आते रहते हैं और उन्हें ज्यादा जगह चाहिए होती है जिससे सिस्टम धीमा हो जाता है। तो समय समय पर RAM को भी बढ़ाना चाहिए। जिससे आपका लैपटॉप लंबे समय तक अच्छे से काम करता रहे।
आपके लिए ये ही सलाह है की 8GB RAM वाले लैपटॉप को है प्राथमिकता दें और अगर  कोई HEAVY सॉफ्टवेयर का प्रयोग करना है जैसे फोटोशॉप या Auto CAD का तो कम से कम 16 GB के बारे में सोचें।

Internal Storage

ये वो हिस्सा है जहां आप के लैपटॉप का सब कुछ स्टोर है जैसे फोटो, वीडियो, app, OS इत्यादि। इससे  आपके  लैपटॉप की क्षमता का पता चलता है।


आपके लैपटॉप में पर्याप्त जगह होनी चाहिए। ताकि वो अच्छे से कम कर सके।
इसके आपके पास HDDs एक अच्छा विकल्प है। और अगर आप एडिटिंग करना चाहते हो या high level की गेम्स खेलना चाहते हो तो SSD बेहतर है।


ज्यादातर लैपटॉप स्टोरेज 3 तरह की होती है।


HDD  hard disc drive ये आपके बजट के हिसाब से सही है लेकिन थोड़ी धीमी होती है।
SSD  solid state drive विंडो को 5sec से भी कम समय में खोल देती है। इसने प्रोग्राम ज्यादा तेजी से रन होते है। हांज ये महंगी भी होती है।
SSHD solid state hybrid drive ये HDD और SSD को मिला कर बनाई गई है। मतलब की आपको ज्यादा जगह तो नहीं मिलेगी पर सब कुछ तेजी से कार्य करेगा।
उदाहरण के लिए एक SSHD में 128GB SSD 500GB और 1TB HDD के साथ मिलेगी।

बैटरी

ये आपके लैपटॉप को चलाए रखती है जब वो बिजली से नहीं जुड़ा होता। जिसको watt-hour में मापा जाता है। ज्यादा काम करने के लिए ज्यादा बैटरी की जरूरत होती है ।

Graphic card

ग्राफिक कार्ड एक चिप होती है जो उत्तरदाई होती है आपकी स्क्रीन पर जो भी दिख रहा है उसकी गुणवत्ता के लिए।
RAM की तरह  ग्राफिक कार्ड की ज्यादा GBs आपके लैपटॉप में किसी भी गेम को अच्छे से चलने  में सहायता करता है।
फोटो और वीडियो एडिटिंग सॉफ्टवेयर को अच्छे से काम करने के लिए heavy ग्राफिक कार्ड की जरूरत होती है।


ग्राफिक कार्ड 2 तरह के होते है

1 integrated और 2 dedicated

Integrated आमतौर पर सभी लैपटॉप में पाए जाते है। ये काफी होते है मूवी देखने के लिए और साधारण फोटो एडिटिंग के लिए ।
Intel और AMD प्रोसेसर में इंटेग्रेटेड ग्राफिक चिप होती है जो रोजाना के कार्य के लिए काफी होती है।

Dedicated इनकी जरूर पड़ती है जब आप उच्च स्तर की गेम खेलते है या वीडियो एडिटिंग करते है।
NVIDIA और AMD 2 फेमस कंपनी है जो अच्छे Dedicated graphic card बनाती है।

Display

अच्छी डिस्प्ले चुनने के लिए आपको सही स्क्रीन साइज  और रिजॉल्यूशन  कि जरूरत होगी।

स्क्रीन कई सारे साइज में आती हैं। परंतु सबसे प्रचलित साइज है 15.6 इंच,
एक बड़ी स्क्रीन जरूरी होती है वीडियो देखने के लिए और गेम खेलने के लिए। जबकि एक छोटी स्क्रीन को आप आसानी से एक जगह से दूसरी जगह ला ले जा सकते है। याद रखें अगर स्क्रीन साइज बडा होगा तो आपका लैपटॉप भी भारी होगा।


Resolution

स्क्रीन रिजॉल्यूशन ज्यादा होने पर आपको साफ और अच्छा दिखेगा।
कुछ common स्क्रीन रिजॉल्यूशन है।
HD ready, Full HD एंड 4K

Ultra HD और 4K सबसे बेहतर डिस्प्ले रिजॉल्यूशन है।

रिफ्रेश rate

इसका मतलब एक सेकंड में एक इमेज कितनी बार बदलती है आपकी स्क्रीन पर। ये मापी जाती है हर्ट्स और फ्रेम्स पर स्क्रीन ,(FPS)
गेम्स खेलने के लिए HIGH FPS की जरूरत होती है।
स्टैंडर्ड रिफ्रेश रेट एक लैपटॉप के लिए 60 होती है।

Matte और Glossy डिस्प्ले

Matte डिस्प्ले आजकल सभी प्रयोग के रहे है क्योंकि इसमें ज्यादा रिफ्लेक्शन नहीं है। ये उनके लिए बिल्कुल सही है जिन्हें क्रिएटिव काम करना है। हैं ये थोड़ी महंगी है।

Glossy ये लैपटॉप में बहुत ही common है। परंतु इसमें बहुत रिफ्लेक्शन होती है।

ऑपरेटिंग सिस्टम

ये हार्डवेयर को नियंत्रित करता साथ में दूसरे सॉफ्टवेयर को इजाजत देता है हार्डवेयर के साथ कम्युनिकेट करने की। ये सभी सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर के साथ साथ सब फाइलों को, मेमोरी को और दूसरे जो देवाइस साथ में जुड़े है सब को नियंत्रित करता है।

लैपटॉप जिनमें विंडो पहले से होती है कभी कभी उनमें MS ऑफिस अलग से इंस्टॉल करना पड़ता है।
और जिनमें MS Office  इंस्टॉल होता है उनमें कई बार सिर्फ स्टूडेंट version ही दिया रहता है। जिसमे आपको सिर्फ powerpoint, एक्सेल, Word और  One Note ही मिलेगा। अगर आप कोई दूसरा ऑफिस भी चाहते है जैसे ईमेल सिस्टम और प्रोजेक्ट मैनेजमेंट तो आपको अलग से खरीदना पड़ेगा।

विंडो 10

ये विंडो का नया रूप है। अगर आप विंडो 10 का प्रयोग करने कि सोच रहे है तो अच्छा होगा कि आप एक लैपटॉप लें जिसमें विंडो 10 पहले से इंस्टॉल हो। अलग से खरीदने पर आपको ज्यादा महंगी पड़ेगी।

अगर आप प्लान कर रहे है एक  लैपटॉप किसी बिजनेस के लिए या किसी भी प्रोफेशनल काम के लिए तो आपको एक ऐसा लैपटॉप लेना चाहिए जिसमें विंडो 10  प्रो हो क्योंकि उसमे सिक्योरटी के कुछ ज्यादा अच्छे फीचर है। यद्यपि वो ज्यादा महंगा होगा परन्तु जड़ा सुरक्षित होगा।

आप ने Linux या DOS based लैपटॉप लिया है और अब उसमे विंडो डलवाना चाहते हो तो किसी professional से संपर्क करें या सही ड्राइवर डाउनलोड करें ।

Port और कनेक्टिविटी

अच्छे से चेक कर ले की आपके लैपटॉप में पर्याप्त port है जिनमें आप अपना माउस, प्रोजेक्टर, टीवी, हेडफोन, और अपना फोन भी चार्ज के सको।
अलग अलग port का अलग कार्य होता है परन्तु कुछ port जरूरी होते है जैसे की।

  • USB type A जिसमें हम मोबाइल फोन, pen ड्राइव इत्यादि लगाते है। जितना नया वर्जन होगा उतनी ही अच्छी स्पीड होगी डाटा ट्रांसफर की। उदाहरण के लिए USB 3.1 ज्यादा तेज है 3.0 से, जो 2.0 से ज्यादा तेज है।
  • USB टाइप C ये Port तेजी से डाटा ट्रांसफर करने के काम आता है
  • Card reader – का प्रयोग सीधे माइक्रो SD कार्ड से डाटा लेने के लिए किया जाता है।
  • HDM I – इसके द्वारा हम अपने लैपटॉप को LED टीवी और प्रोजेक्टर के साथ जोड़ सकते है।
  • VGA PORT – ये पुराने टाइप का कनेक्टर है टीवी और मॉनिटर को जोड़ने का काम करते है।
  • थंडर्बोल्ट – सबसे तेज और आधुनिक कनेक्टर है थंडर्बोल्ट। ये एक कॉम्बिनेशन है C प्रकार का और डिस्प्ले port का ।

पतले और हलके लैपटॉप


जो लैपटॉप 1.8 kg से कम भारी होने के साथ साथ ज्यादातर इनकी स्क्रीन का साइज 14 इंच या उस से कम होता है। ये पतले और कम भर वाले होते है।  इनको आसानी से हम अपने साथ एक जगह से दूसरी जगह ला ले जा सकते है। देखने में अच्छे लगते है और इनके डिजाइन भी अच्छे होते है। आज कल मार्केट में इन्हीं लैपटॉप का ज्यादा प्रचलन है।

बहुमुखी लैपटॉप

इनको हम लैपटॉप और टैबलेट दोनों ही तरह प्रयोग कर सकते है।
ये दो प्रकार के होते है


1 अलग किया जाने वाला


इस तरह के लैपटॉप की स्क्रीन को कीबोर्ड से अलग कर के टेब की तरह प्रयोग किया जा सकता है।

2 बदलने वाला


इनकी स्क्रीन कीबोर्ड से अलग नहीं की का सकती परंतु इसको हम 360 डिग्री घुमा सकते है और टैब की तरह प्रयोग कर सकते है।

Thriving Boost
Thriving Boost
Articles: 79
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x