एशिया में सबसे ज्यादा भ्रष्टाचार कहीं है तो वो हमारे प्यारे भारत मै है।

भ्रष्टाचार

पूरे एशिया में सबसे ज्यादा भ्रष्टाचार कहीं है तो वो हमारे प्यारे भारत मै है।

Global Corruption Barometer रिपोर्ट

ये रिपोर्ट जारी की है Transprancy International ने हाल ही में Global Corruption Barometer की एक रिपोर्ट publish की है। जिसमे इन्होंने focus किया है एशिया पर। आप जानते ही होंगे कि एशिया विश्व का सबसे बड़ा महाद्वीप है जिसकी जनसंख्या 446.27 करोड़ है।

Transprancy International की रिपोर्ट जिसने मात्र विश्व के 17 देशों को शामिल किया है। उनमें से इन्होंने 15 देशों पर ज्यादा focus किया है। जिनमे इन्होंने लगभग 20000 लोगों से सवाल पूछे है भ्रष्टाचार को लेकर। उसके बाद जो इनके पास आंकड़े आए वो बताते है कि एशिया मे भारत नंबर 1 पर है भ्रष्टाचार में। Cambodia और Indonasia दूसरे और तीसरे पायदान पर है। सबसे कम भ्रष्टाचार है मालदीव और जापान में।

हालांकि इन्होंने पाकिस्तान के आंकड़े नहीं दर्शाए है।

रिपोर्ट की कुछ खामियां

इनकी इस रिपोर्ट में भारत और चीन के दरमियान काफी अंतर दिखाया गया है।

जबकि इनकी ही Curruption Perceptions Index 2019 की रिपोर्ट के अनुसार इन्होंने भारत और चीन को दोनों को 80वें पायदान पे रखा था।


कौन से department में ज़्यादा भ्रष्टाचार है?

भारत में लोगों ने स्वीकार किया है कि उन्होंने सबसे ज्यादा रिश्वत पहचान पत्र बनाने में और पुलिस को दी है।


ये हमारे लिए शर्म की बात है हम सभी के लिए की भारत में बड़े level पर भ्रष्टाचार हो रहा है। हम जापान जैसे देश से बहुत कुछ सीखने को जरूरत है। हम सिर्फ और सिर्फ सरकार को दोषी नहीं ठहरा सकते क्योंकि हम भी अपना काम निकलवाने के लिए किसी को भी चाय पानी के लिए थोड़ा बहुत दे देते है।

इस रिपोर्ट में एक बहुत ही गंभीर बात सामने आई। जब लोगों से पूछ गया कि, क्या सरकार आपके देश वो भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए अच्छा काम कर रही है? तो जापान में 76 प्रतिशत लोगों ने कहा की सरकार बहुत ही खराब कार्य कर रही है, भ्रष्टाचार को खत्म करने में। वहीं भारत में 63 प्रतिशत लोगों ने कहा की सरकार अच्छा काम कर रही है भ्रष्टाचार को खत्म करने में।

भारतीय रिश्वत लेते या देते क्यों है?

अब सवाल ये भी उठता है कि भारत में आम आदमी को लगभग हर जगह रिश्वत देने की जरूरत क्यों है?
जहां तक की भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए बहुत सारे कानून पास किए गए है। ताकि नीचे के स्तर पर भ्रष्टाचार कम हो जैसे की :-

  • RTI Act 2005
  • Lokayukta Acts of state
  • Lokpal Act 2013
  • Benami properties prohibition Act, 2016.

Digitisation पूर्ण रूप से नही होना।

बहुत से कदम उठाए तो गए है फिर भी ग्राउंड लेवल पर कुछ improvment हुई नहीं है। इसका पहला कारण तो ये है कि, भारत में अभी भी जो सरकारी सेवाएं है या सरकारी कागजात बनाने की को प्रक्रिया है अभी तक पूरी तरह से आधुनिकीकरण (digitisation) हुआ नहीं है। अगर सब पूरी तरह से डिजिटाइज हो जाएगा तो भ्रष्टाचार में कुछ तो कमी आएगी। क्योंकि फिर आपको आदमियों से ज्यादा नहीं मिलना पड़ेगा, आप सीधे अपना कम खुद ऑनलाइन कर सकते हो।

आय का कम होना।

उसके अलावा एक पहलू ये भी है कि जो सरकारी कर्मचारी होते है नीचे के स्तर के उनकी या तो तनख्वाह ही इतनी कम होती है और पधोन्निती भी बहुत धीमी है जिससे उनकी आय में कुछ इजाफा होता नहीं है तो इस की वजह से भी क्यों बार ये लोग रिश्वत लेना शुरू कर देते है। इसी के साथ साथ ये भी सच है कि जहां न्यायव्यवस्था का ज्यादा डर भी नहीं है। और रिपोर्ट के मुताबिक जहां लोगों ने न्यायिक व्यवस्था मे भी रिश्वत दी है।

तो ये सब कारण जिम्मेदार है भारत में भ्रष्टाचार के। अब बात तो करनी पड़ेगी अगर भारत को एक खुशहाल देश बनाना है अगर हमारे बच्चों का भविष्य उज्वल बनाना है तो। हमे आगे आना पड़ेगा।

आपको भी अपने विचार सांझा करने होंगे की क्या कारण हो सकते है और क्या उपाय हो सकते है।

आप सभी बहुत समझदार है और जाहिर सी बात है 121 करोड़ की जनसंख्या में बहुत लोगों के पास बहुत से ideas होंगे जो काम करेंगे। जरूरत है, उनको आगे लाने की । तो हमने ये एक मंच तैयार किया है आपकी आवाज़ को उपर लाया जाएगा। आपका साथ दिया जाएगा। बस जरूरत है आपके आगे आने की अपने विचार रखने की। भारत एक लोकतंत्र है और लोकतंत्र में जनता सर्वोपरि है अपनी ताकत को पहचानो।

अगर आपको आगे नहीं भी आना है तो भी अपना idea जरूर हम तक पहुंचाएं ताकि हम उसे आगे लेकर जा सकें। एक कदम इस देश के लिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.