फादर्स डे, कविता पाठन प्रतियोगिता

इस प्रतियोगिता का उद्देश्य जीवन में पिता के महत्व को उजागर करना है। एक पिता होना चुनौती पूर्ण हो सकता है, लेकिन उससे भी चुनौती भरा होता है, अपने जीवन में पिता को यह बताना कि वह उनकी जिंदगी में कितने महत्वपूर्ण है।

पिता अपने बच्चों के जीवन में जो योगदान देते हैं, उसे पहचानने के लिए दुनिया भर में फादर्स डे मनाया जाता है। इस साल यह 20 जून 2021 को है। इस उपलक्ष्य पर Thriving Boost  एक online कविता पाठन प्रतियोगिता का आयोजन करने जा रहा है। जिसमें आपको कविता पाठन करते हुए अपनी एक Video बनानी होगी।

फादर्स डे हिन्दी कविता पाठन प्रतियोगिता।

आप के पास नि:शुल्क मौका है नकद 2000 रुपये तक इनामी राशी, gift और प्रमाण पत्र जीतने का! आप सभी अपनी कविता पाठन वाली video हमें भेज कर इस प्रतियोगिता का हिस्सा बन सकते है। आप सिर्फ हिन्दी में कविता पाठन कर सकते हैं। विजेताओं को इनाम और प्रमाण पत्र दिए जाएंगे। विजेताओं के अलावा निर्णायक मण्डल 10 कविताएं चुनेगें जिन्हे Thriving Boost की बार्षिक पत्रिका में स्थान मिलेगा। 

प्रतियोगिता का उद्देश्य

इस प्रतियोगिता का उद्देश्य जीवन में पिता के महत्व को उजागर करना है।  एक पिता होना चुनौती पूर्ण हो सकता है, लेकिन उससे भी चुनौती भरा होता है, अपने जीवन में पिता को यह बताना कि वह उनकी जिंदगी में कितने महत्वपूर्ण है। हमारे जीवन में पिता के महत्व को वर्णित कर पाने के लिए  सही शब्द ढूँढना और भी ज्यादा मुश्किल हो सकता है।

बेशक, यह ये एक प्रतियोगिता है। लेकिन, मेरे ख्याल से ये आप लोगों के लिए एक मंच है, एक जरिया है। आपकी भावनाओं को पिता के सम्मुख रखने का।  आप दिल से कागज पर वो लिखने की कोशिश करना, जो आप सच में उनके लिए दिल के किसी कोने में रखते हो। जो बोलते हुए आपके क्या किसी के भी पापा गदगद हो जाएं। आज नहीं तो फिर कब बोलोगे। मौत का साया हर समय मंडरा रहा है।  ये प्रतियोगिता आपकी भावनाओं को शब्दों में पिरोने में मदद कर सकती हैं। जरा सोच के देखिए क्या इससे अच्छा Father’s Day गिफ्ट कुछ हो सकता है क्या? आपके पिता के लिए। तो आइए इस बार दिल से एक तोहफा पापा के लिए और हिन्दी कविता कोश का विस्तार करें।

Eligibility

इस प्रतियोगिता में कोई भी व्यक्ति, छात्र (पुरुष या महिला) भाग ले सकता है। यह ऑनलाइन कविता पाठन प्रतियोगिता दुनिया के किसी भी हिस्से से किसी भी आयु वर्ग के किसी भी प्रतिभागी के लिए खुली है।

Categories(श्रेणियाँ): उम्र के हिसाब से।

  • Age Group: 10 से 17 साल (Group A).
  • Age Group: 17 साल से ऊपर (Group B).

दिशा – निर्देश

अपनी कविता प्रस्तुत करने से पहले, कृपया सुनिश्चित करें कि आपने निम्नलिखित दिशानिर्देशों को पढ़ा है और उनका पालन किया है।

1. आपको अपनी स्वरचित कविता का पाठन करते हुए video बना कर हमें भेजनी है। आपकी भेजी गई video और कविता पहले कहीं प्रकाशित नहीं होनी चाहिए।

2. यह एक निःशुल्क प्रतियोगिता है। Video भेजने की अंतिम तिथि 19 जून 21 है। । परिणाम 27 जून 21 को घोषित किये जाएंगे।

3. प्रतियोगिता कोई लिंग प्रतिबंध या राष्ट्रीयता प्रतिबंध नहीं है, ये सभी के लिए खुली है।

4. कविता आपकी अपनी कृति होनी चाहिए। किसी दूसरे की चुराई गई कविता को भी रद्द कर दिया जाएगा। 

5. अशिष्ट, आपत्तिजनक या पूरी तरह से अनुचित भाषा वाली कविता स्वीकार नहीं की जाएगी।

6. सभी विजेताओं को ई-मेल, डाक और upi ID के माध्यम से नकदी, पुरस्कार और प्रमाण पत्र दिए जाएंगे। विजेताओं को फोन या ईमेल द्वारा संपर्क किया जाएगा और उनकी पहचान की पुष्टि की जाएगी। विजेताओं की पूरी सूची को Thriving Boost की आधिकारिक वेबसाइट पर पोस्ट कर दिया जाएगा।

7. कविता पाठन की भाषा हिन्दी रहेगी।

8. ध्यान रहे Video में Background Music अनिवार्य नहीं है।

9. विजेता कवियों, के नाम और अन्य संबंधी जानकारी Thriving Boost website और YouTube चैनल पर प्रकाशित की जाएगी।

10. प्रत्येक श्रेणी के परिणामों पर विचार करने के लिए न्यूनतम 25 प्रतिभागियों की आवश्यकता है। अन्यथा परिणाम घोषित नहीं किया जाएगा।

कविता पाठन की Video कैसे प्रस्तुत करें?

हमें ईमेल, और WhatsApp द्वारा अपनी कविता पाठन की Video भेजें:

  • ईमेल – thrivingboost@gmail.com
  • WhatsApp नंबर: – 8219115668

हमें क्या चाहिये?

1. आपकी कविता पाठन की Video साथ में आपके द्वारा लिखी गई कविता।

2. अगर आप ग्रुप – A के में भाग ले रहे हो तो आपको आयु पुष्टि के लिए अपने किसी आयु दस्तावेज की फोटो भी भेजनी होगी।  

3. आपकी व्यक्तिगत जानकारी जिसमें:

  • नाम(Name)
  • उम्र (Age)
  • पेशा(Your Profession)
  • डाक पता(Postal Address)
  • ईमेल आईडी(Email Id) या मोबाइल नंबर(Mobile No.)।

निर्णायक मण्डल

Thriving Boost के निर्णायक मण्डल मे व्यापक पृष्ठभूमि वाले लोग हैं। सभी न्यायाधीशों को कविता का व्यापक ज्ञान है।

प्रतियोगिता के समापन पर निर्णायक दौर का बहुमूल्य कार्य शुरू होता हैं। कृपया समझें, इस प्रतियोगिता का निर्णय करना हमारे लिए उतना ही महत्वपूर्ण है जितना कि यह आपके लिए। अंतिम परिणाम तैयार करने में  लगभग 3-4 दिन लगते हैं।

ग्रुप A और ग्रुप B दोनों में सर्वश्रेष्ठ 3, 3  कविताएँ पुरस्कृत की जाएंगी।

निर्णायक मण्डल का निर्णय अंतिम होगा।

यदि आप विजेता हैं, तो आपकी UPI Id, हम पहचान की पुष्टि के समय प्राप्त करेंगे।

जीत के मानदंड

  • आपकी video पर YouTube चैनल पर कम से कम 10 टिप्पणियों(Comments)  और 50 view के होने पर ही कविता मानदंड के तहत आएगी। अधिक टिप्पणियां आपको अंतिम परिणाम में लाभान्वित कर सकती हैं।
  • काव्य पाठन  तकनीक, प्रभावशीलता, शैली और रचनात्मकता ये जीत के मुख्य मानदंड है।
  • YouTube पर 3 सबसे ज्यादा views प्राप्त करने वाली 3 videos को Thriving Boost की तरफ से उपहार दिए जाएंगे। 

पुरस्कार

प्रथम –  800 रुपये और प्रमाण पत्र।

दूसरा – 400 रुपये और प्रमाण पत्र।

तीसरा –200 रुपये और प्रमाण पत्र।

ज्यादा Entries आने पर इनाम की राशी बड़ा दी जाएगी। 100 से ज्यादा Entries आने पर इनामी राशी दोगुनी और 150 पार करने पर तीन गुणा हो जाएगी।  

10 बेहतर कविताओं को Thriving Boost वार्षिक पत्रिका में स्थान मिलेगा, सभी प्रतिभागियों को ई-प्रमाण पत्र।

कॉपीराइट Note

सभी संकलित किए गए प्रकाशनों पर Thriving Boost का कॉपीराइट होगा। कविता लेखक की व्यक्तिगत संपत्ति हैं। Thriving Boost प्रविष्टियों को प्रकाशित करने के अधिकार को अपने पास रखता है।

कभी तुम चुप रहो, कभी मैं चुप रहूँ।

“कभी तुम चुप रहो, कभी मैं चुप रहूँ” मंजू लोढ़ा द्वारा रचित बहुत ही खूबसूरत रचना है। जिसमे उन्होंने प्यार के अहसास को उजागर किया है। जिसमे बातें नहीं सिर्फ एहसास होता है। प्रेम रस से भरपूर ये कविता आपको आपके प्यार की याद जरूर करवाएगी।

कभी तुम चुप रहो, कभी मैं चुप रहूँ।

कभी तुम चुप रहो,
कभी मैं चुप रहूँ,
कभी हम चुप रहें
खामोशियों को करने दो बातें,
यह खामोशियाँ भी बहुत कुछ कह जाती हैं,
जो हम कह न सकें वह भी कह जाती हैं।
कभी तुम चुप रहो
कभी मैं चुप रहूँ
कभी हम चुप रहें‌।
आओ आज युंही बैठे
एक-दुजे की आंखो में डुबे
उस प्यार को महसुस करे
जो जुंबा पर कभी आया ही नहीं।
कभी तुम चुप रहो
कभी मैं चुप रहूँ
कभी हम चुप रहें।
आओ हम तुम नदी किनारे
हाथों में हाथ दे चहलकदमी करें
मुद्दतों से जो सोया था एहसास
उसे तपिश की गर्माहट को महसुस करें।
कभी तुम चुप रहो
कभी मैं चुप रहूँ
कभी हम चुप रहें।
आओ आज छेडे, ऐसा कोई तराना
जो धडकनों में बस जाये
बिन गाये, बिन गुनगुनाये
संगीत की लहरियों में हम डुब जाये। कभी तुम------
चुप रहना कोई सजा नहीं
चुप रहना एक कला है,
जो बिना कहें सब कुछ कह जायें
वह प्यार तो पूजा है।
कभी तुम चुप रहो
कभी मैं चुप रहूँ
कभी हम चुप रहें।
मंजू लोढ़ा ,स्वरचित-मौलिक

हिन्दी कविता जीवन

हिन्दी कविता “जीवन” फूलेन्द्री जोशी द्वारा लिखी गई है। जीवन को गणित से जोड़ कर जीवन की परिभाषा समझाने की एक बहुत अच्छी कोशिश है। जिस तरह गणित सभी को समझ नहीं आता जीवन भी को भी समझना हर किसी के बस मे नहीं।

।।जीवन।।

जीवन एक गणित हल करना सबको पड़ेगा।

जो ना इसे हल करे तो वो आगे कैसे बड़ेगा।।

जीवन में खुशियो को जोड़े जाते हैं,

और गम को घटाये जाते हैं,

दोस्तो को गुणा करते हैं,

और दुश्मनो को भाग दिये जाते हैं।

जो शेष फल में आता हैं,

उसी को सही माना जाता है।

जो इस सवाल को सुलझाये वही आगे बड़ेगा।।

जीवन एक गणित………………..,……………।

गणित की तरह आते हैं छोटे बड़े केचिन्ह,

जीवन में संख्या की तरह सम विषम,और अभिन्न भी होते हैं।

जीवन में। कभी करोड़ो का फल मिलता है।

तो कभीहमारा भाग्य शून्य रह जाता हैं।।

शेष फल देखकर यही जीवन है,

ऐसा सबको लगता है।।

जिसे होता है जीवन का अनुभव वही इसको समझेगा।

जीवन एक गणित ………………………………….।।

लंबाई और चौड़ाई की तरह जीवन भी लंबा चौड़ा होता है।

कभी बिंदू की तरह थम जाता है,

और कभी गोलाई की तरह घुम जाता है।

जीवन के पहलु को किलो ग्राम के तरह तौला जाता है,

तो कभी लीटर की तरह बांटकर,

मीटर की तरह नापा जाता है।

जो इस सवाल को समझे,

वही इसको हल करेगा।।

जीवन एक गणित है हल करना सबको पड़ेगा।।

कवि
फूलेन्द्री जोशी, तितिरगांव(जगदलपुर)। जिला_बस्तर (छ.ग.)

Participants of Online Yoga Competitions 2021

Online Yoga Competitions 2021 is open for all Participants। इस आयोजन का मुख्य उद्देश्य योग में प्रतिभा की पहचान करना है। योग क्षेत्र में सफलता प्राप्त करने के लिए एक मंच प्रदान करना, योग के क्षेत्र में ज्ञान को बढ़ावा देना और यह जांचने के लिए कि भविष्य के दृष्टिकोण में योग का नेतृत्व कौन कर सकता है।

इस प्रतियोगिता के आयोजन का मुख्य उद्देश्य योग में प्रतिभा की पहचान करना है। योग क्षेत्र में सफलता प्राप्त करने के लिए एक मंच प्रदान करना, योग के क्षेत्र में ज्ञान को बढ़ावा देना और यह जांचने के लिए कि भविष्य के दृष्टिकोण में योग का नेतृत्व कौन कर सकता है। 

Contestant of Online Yoga Competitions

Online योग आसन प्रतियोगिता 2021

Online योग आसन प्रतियोगिता

यह ऑनलाइन योग प्रतियोगिता दुनिया भर के प्रतिभागियों के लिए खुली है, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि इस प्रतियोगिता में अधिक से अधिक संख्या में प्रतिभागी भाग लें सकें। प्रतिभागियों को 17 जून 2021 तक अपने वीडियो प्रस्तुत करने होंगे। Video 4 मिनट से अधिक नहीं होना चाहिए।

प्रतियोगिता के उद्देश्य

• इस प्रतियोगिता के आयोजन और आयोजन का मुख्य उद्देश्य योग में प्रतिभा की पहचान करना है।

• योग क्षेत्र में सफलता प्राप्त करने के लिए एक मंच प्रदान करना है।

• योग के क्षेत्र में ज्ञान को बढ़ावा देना है।

• यह जांचने के लिए कि भविष्य के दृष्टिकोण में योग का नेतृत्व कौन कर सकता है।

कौन कौन भाग ले सकता है?

इस प्रतियोगिता में किसी भी संस्थान, कॉलेज, स्कूल और विश्वविद्यालय से कोई भी व्यक्ति, छात्र (पुरुष या महिला) भाग ले सकते है। यह ऑनलाइन योग प्रतियोगिता दुनिया के किसी भी हिस्से से किसी भी आयु वर्ग के किसी भी प्रतिभागी के लिए खुली है।

श्रेणियाँ: आयु समूह

• आयु समूह: 5 से 10 वर्ष (ग्रुप A)।

• आयु समूह: 11 से 19 वर्ष (ग्रुप B)।

• आयु समूह: 20 और उससे अधिक (ग्रुप C)।

कैसे पंजीकृत करें?

प्रतिभागी अपने योग के पोज़ बनाते समय video बनाकर, और video को हमे  भेजकर online योग प्रतियोगिता में पंजीकृत कर सकते हैं। सभी Entries निशुल्क हैं।

हमे Video कैसे भेजें?

ईमेल आईडी: thrivingboost@gmail.com

WhatsApp No : 8219115668

अगर पूरी Video एक बार भेजने में सक्षम नहीं है तो Video को 2 Parts में भी भेज सकते है।

प्रतियोगियों को वीडियो के साथ निम्नलिखित विवरण प्रदान करना आवश्यक है:

1. ग्रुप A और ग्रुप B में जो पंजीकृत करना चाहता है, उसे साथ में अपना कोई आयु प्रमाण पत्र। अगर आप 20 बर्ष और उससे से अधिक आयु ग्रुप में पंजीकृत करना चाह रहे है तो आयु प्रमाण पत्र की आवश्यकता नहीं है।

2. मोबाइल नंबर

3. ईमेल

4. पता

5. आयु

दिशा निर्देश

ऑनलाइन योग प्रतियोगिता के लिए अपना प्रदर्शन वीडियो जमा करने का अंतिम दिन 17 जून है। इस ऑनलाइन योग आसन प्रतियोगिता का परिणाम 21 जून 2021 को घोषित किया जाएगा।

• आपके द्वारा भेजी गई Video पहले कहीं प्रकाशित नहीं होनी चाहिए।

• Video की समय सीमा 2 से 4 मिनट तक की है।

• किसी भी तरह की Editing और Video की गति के साथ छेड़छाड़ अनिवार्य नहीं है। 

• Background Music की भी अनुमति नहीं है।

• उम्मीदवार से यह अपेक्षा की जाती है कि वह अपने Video को कम से कम 12 m.p या उससे अधिक क्षमता वाले कैमरे से शूट करे, और इस तरह से शूट करे कि प्रदर्शन करते समय शरीर का सारा हिस्सा फ्रेम में कैद हो जाए।

Video जमा करने के बाद क्या होता होगा?

1. आपका वीडियो हमारे यूट्यूब चैनल, वेबसाइट और हमारे सभी सोशल मीडिया पेजों पर आपके नाम के साथ प्रकाशित होगा।

2. निर्णायक मण्डल द्वारा परिणामों पर विचार करने के लिए प्रत्येक श्रेणी में न्यूनतम 25 प्रतिभागियों की आवश्यकता होगी।

Winning Parameters

आपका वीडियो Thriving Boost वेबसाइट और YouTube चैनल पर प्रकाशित किया जाएगा। दोनों लिंक आपको आपके ईमेल या व्हाट्सएप पर भेजे जाएंगे। आप YouTube पर कमेंट्स और views के लिए अपने प्रकाशित वीडियो को साझा और विज्ञापित कर सकते हैं। वैसे तो 80% नतीजे आपकी प्रतिभा के आधार पर घोषित किए जाएंगे, लेकिन परिणामों में YouTube में आपकी Video को मिले views भी शामिल हैं। हर 20 views पे आपके 1 अंक मिलेंगा। इसलिए ध्यान रखें की अधिक views आपको, अंतिम परिणाम में लाभान्वित कर सकते हैं।

इनाम

विजेताओं को नकद इनाम राशी के साथ मेरिट ई-सर्टिफिकेट मिलेगा। यदि हम प्रत्येक श्रेणी में 50 से अधिक प्रविष्टियाँ प्राप्त करते हैं, तो 2000 रुपये तक के नकद पुरस्कार दिए जाएंगे। प्रत्येक श्रेणी में न्यूनतम नकद पुरस्कार नीचे दिए गए हैं।

प्रथम पुरस्कार – ₹500 साथ मे मेरिट का प्रमाणपत्र

द्वितीय पुरस्कार – ₹300 साथ मे मेरिट का प्रमाणपत्र

तीसरा पुरस्कार – ₹150 साथ मे मेरिट का प्रमाणपत्र

प्रतिभागियों की संख्या में वृद्धि के साथ नकद पुरस्कार राशि में भी वृद्धि की जाएगी।

सभी प्रतिभागियों को Participation के ई-प्रमाण पत्र से सम्मानित किया जाएगा।

परिणाम हम 21 जून 21 योग दिवस पर घोषित करेंगे।

चीजें जो आपको जीत में मदद कर सकती हैं

• प्रतियोगिता में पंजीकृत जल्दी करें।

• YouTube views को नजरअंदाज ना करें, अधिक views प्राप्त करने के लिए अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ YouTube वीडियो लिंक साझा करें।

• कैमरा क्वालिटी अच्छी होनी चाहिए, साथ में आपके आसन स्पष्ट होने चाहिए।

कृपया अपने छात्रों, अपने मित्रों, अपने रिश्तेदारों और अपने परिचितों को योग आसन video प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करें। सभी Entries निशुल्क हैं।

कॉपीराइट Note

सभी संकलित की गई VIDEO पर Thriving Boost का कॉपीराइट होगा। Thriving Boost video को प्रकाशित करने के अधिकार को अपने पास रखता है।

हनुमान जयंती

गौरवशाली राम नवमी के उत्सव के बाद, पवित्र हनुमान जयंती पूरी भव्यता के साथ मनाई जाती है। हनुमान जी को भारतीय महाकाव्य ‘रामायण’ के उत्कृष्ट नायकों में से एक माना जाता है। हिंदू, विशेष रूप से भगवान हनुमान के भक्त इस अवसर को बहुत भक्ति और उत्साह के साथ मनाते हैं। हनुमान के विविध पहलुओं को हनुमान जयंती के त्यौहार पर याद किया जाता है और उनकी पूजा की जाती है।

वजरंगी

भगवान हनुमान हिंदू धर्म में सबसे महत्वपूर्ण और श्रद्धेय देवताओं में से एक हैं। उन्हें भक्ति, विश्वास, वीरता और निस्वार्थ प्रेम के प्रतीक के रूप में पहचाना जाता है उन्हे वजरंग वली के नाम से भी जाना जाता है।

वजरंगी कोई साधारण बालक नहीं थे। वह उत्साही और ऊर्जावान थे। उनमे भरपूर ताकत थी।

सूर्य नमस्कार की शुरुआत

वीर हनुमान जी ही थे जिन्होंने सबसे पहले प्राणायाम और सूर्य नमस्कार की शुरुआत की थी। वायुदेव ने सबसे पहले अपने पुत्र हनुमान को प्राणायाम सिखाया था। फिर हनुमान जी ने ही इसे मानव जाति तक पहुंचाया।

हनुमान जयंती 2021

वीर हनुमान जी की जयंती चैत्र के चंद्र माह में मनाई जाती है। जिसमें कई हिंदू मंदिरों में विभिन्न आध्यात्मिक चर्चाएं आयोजित की जाती हैं। इस वर्ष, हनुमान जयंती 27 अप्रैल, 2021, मंगलवार को मनाई जाएगी।

भगवान हनुमान का महत्व

प्रारंभिक भारतीय परंपराओं से प्रसिद्ध कहावत के अनुसार, यदि कोई भगवान राम से अपने सभी दुखों को दूर करने की इच्छा रखता है, तो भगवान केवल हनुमान के माध्यम से ही पहुंच सकते हैं। इसलिए, यह त्योहार भगवान राम और हनुमान का आशीर्वाद लेने के लिए सबसे उपयुक्त दिन है। यह भी कहा जाता है कि प्रसिद्ध हनुमान चालीसा ’का लगातार पाठ करना दुखों को दूर करने और जादुई शक्तियों को प्राप्त करने में मदद कर सकता है।

हनुमान जी के बारे में रोचक तथ्य।

  1. अंजना, भगवान ब्रह्मा के खगोलीय महल में एक सुंदर अप्सरा एक ऋषि द्वारा शाप दिया गया था कि, जिस क्षण वह प्यार में पड़ गई, उसका चेहरा बंदर के रूप में बदल जाएगा। भगवान ब्रह्मा ने उनकी मदद करने की सोची और उन्होंने पृथ्वी पर जन्म लिया। बाद में, अंजना को बंदर राजा केसरी से प्यार हो गया और दोनों ने एक दूसरे से शादी कर ली। अंजना ने पूर्ण श्रद्धा, विश्वास और धैर्य से तप किये। जिससे वह वायु देव को प्रसन्न करने में सफल रहीं। वायु देव ने उन्हें पुत्र प्राप्ति का आशीर्वाद दिया ताकि वह ऋषि के श्राप से मुक्त हो जाए।

कुछ दिनों बाद, राजा दशरथ एक यज्ञ कर रहे थे जिसके बाद ऋषि ने उन्हें अपनी सभी पत्नियों को खिलाने के लिए खीर दी। कौशल्या जो दशरथ की सबसे बड़ी पत्नी थी का एक हिस्सा, एक चील द्वारा छीन लिया गया और भगवान शिव के संकेत पर अंजना के हाथ में रखा। भगवान शिव का प्रसाद समझकर अंजना ने उसे खा लिया और इस तरह उसने अपने अवतार – पवनपुत्र हनुमान को जन्म दिया, जो कि भगवान के पुत्र थे।

2. हनुमान को सिंदूर क्यों लगते है ?

भगवान हनुमान भगवान राम को पूर्णतः समर्पित थे। एक विशेष घटना थी जब सीता ने अपने माथे पर सिंदूर लगाया, हनुमान ने उनसे पूछा कि क्यों। इसके लिए, उसने उत्तर दिया कि चूंकि वह भगवान राम की पत्नी और सहचरी है, इसलिए सिंदूर उसके बिना शर्त प्यार और सम्मान का प्रतीक था। फिर हनुमान ने भगवान राम के प्रति अपने प्रेम को साबित करने के लिए अपने पूरे शरीर को सिंदूर से ढक लिया। भगवान राम इससे बहुत प्रभावित हुए और उन्होंने वरदान दिया कि जो लोग भविष्य में भगवान हनुमान को सिंदूर से पूजते हैं, उनकी सारी मुश्किलें दूर हो जाएंगी।

3. संस्कृत में, ‘हनु’ का अर्थ ‘जबड़ा’ और ‘मान’ का अर्थ ‘विकृत’ होता है। हनुमान जब बालक थे तो उन्होंने सूर्य को पक्का हुआ आम समझ कर खा लिया था। तब भगवान इंद्र ने हनुमान पर अपने वज्र का उपयोग किया था। जिससे उनके जबड़े हमेशा के लिए क्षतिग्रस्त हो गए थे।

4. हनुमान का पुत्र

हनुमान का पुत्र मकरध्वज उसी नाम की एक शक्तिशाली मछली से पैदा हुआ था जब हनुमान ने अपनी पूंछ से पूरे लंका को जलाने के बाद अपने शरीर को ठंडा करने के लिए समुद्र में डुबकी लगाई थी। ऐसा कहा जाता है कि उनका पसीना मछली ने निगल लिया था । जिससे मकरध्वज पैदा हुआ था।

5. हनुमान रचित रामायण

लंका युद्ध के बाद, हनुमान भगवान राम के प्रति अपनी श्रद्धा को जारी रखने के लिए हिमालय गए, हनुमान ने अपने नाखूनों के साथ हिमालय की दीवारों पर राम की कथा का संस्करण बनाया। जब महर्षि वाल्मीकि रामायण के अपने संस्करण को दिखाने के लिए हनुमान के पास गए, तो उन्होंने दीवारों को देखा तो वो मायूस हो गए। क्योंकि वाल्मीकि का मानना ​​था कि हनुमान की रामायण श्रेष्ठ थी और अगर वो लोगों तक पहुँच गई तो, रामायण के उनके बनाए संस्करण पर किसी का ध्यान नहीं रहेगा। लेकिन उनकी मायूसी महसूस करते हुए, हनुमान ने अपना संस्करण छोड़ दिया। वाल्मीकि ने कहा कि वह हनुमान की महिमा गाने के लिए पुनर्जन्म लेना पसंद करेंगे!

6. भीम अहंकार को कैसे कम किया ?

भीम वायु (हवाओं के भगवान) के पुत्र थे। एक दिन, जब भीम अपनी पत्नी के साथ फूल खोज रहे थे। तो उनकी पत्नी ने देखा कि एक बंदर अपनी पूंछ के साथ सो रहा है। उसने उसे अपनी पूंछ हटाने को कहा। लेकिन बंदर ने ऐसा नहीं किया। तो भीम को इसे हटानेे के लिए कहा। भीम को अपनी ताकत पर बहुत घमंड था। फिर भी, वह पूंछ को हिला या उठा नहीं सका। इसलिए, उन्होंने महसूस किया कि यह एक साधारण बंदर नहीं था। यह कोई और नहीं बल्कि हनुमान थे। वह सिर्फ भीम के अहंकार को कम करने के लिए वहां आये थे।

7. संस्कृत भाषा में भगवान हनुमान के 108 नाम हैं।

हनुमान जयंती कैसे मनाएं?

हनुमान जयंती की पूर्व संध्या पर उत्सव विभिन्न रूप लेते हैं। लोग उपवास करते हैं, दान का अभ्यास करते हैं, ध्यान करते हैं और भगवान हनुमान की पीतल की धातु की मूर्तियों की पूजा करते हैं। हनुमान चालीसा पढ़ने के लिए भी लोग एकत्रित होते हैं।

भगवान हनुमान शक्ति के प्रतीक हैं। इसलिए, यह सभी बॉडी बिल्डरों और पहलवानों के लिए एक महत्वपूर्ण त्यौहार है। लोग हनुमान जयंती के समय कुश्ती प्रतियोगिताओं का आयोजन करते हैं और उनकी शारीरिक शक्ति के विकास की प्रार्थना करते हैं।

शिक्षा

इस पावन अवसर पर, भगवान हनुमान के आशीर्वाद के साथ, हम अपने भीतर जो उचित है उससे संतुष्ट होने के लिए एक मजबूत इरादा करें और हमारे मन, वाणी और शरीर को शुद्ध करें।

Poster By “Shovan Bhabai ” on Earth Day 2021

Poster made by Shovan Bhabai , on the occasion of “Earth day 2021”. It is an opportunity to get creative and let your imagination run limitless. This initiative will engage youth and students to enhance public awareness about how to protect Earth?

Poster Made By "Shovan Bhabai

This Poster is Submitted by Contestant “Shovan Bhabaion the Occasion of Earth Day. Poster making competition on Earth Day 2021 organize by Thriving Boost. Its aim to provide a platform to creative mind to showcase their ability and talent in poster. You guys may also help him to win this contest. 

Poster Competition on Earth Day 2021
Name- Shovan Bhabai
Age- 26 years
From- Jugsalai, Tatanagar, Jharkhand

You can also Participate, for more information click on the link given below

Poster Making Competitions on Earth Day 2021

Poster By “Prithika Dey” on Earth Day 2021

Poster made by Prithika Dey, on the occasion of “Earth day 2021”. It is an opportunity to get creative and let your imagination run limitless. This initiative will engage youth and students to enhance public awareness about how to protect Earth?

Poster Made By "Prithika Dey

This Poster is Submitted by Contestant “Prithika Deyon the Occasion of Earth Day. Poster making competition on Earth Day 2021 organize by Thriving Boost. Its aim to provide a platform to creative mind to showcase their ability and talent in poster. You guys may also help him to win this contest. 

Poster Competition on Earth Day 2021
Name- Prithika Dey
Class-5
Age-10years
From- Jamshedpur Jharkhand

You can also Participate, for more information click on the link given below

Poster Making Competitions on Earth Day 2021

Poster By “Gayatri Tanpure” on Earth Day 2021

Poster made by Gayatri Tanpure, on the occasion of “Earth day 2021”. It is an opportunity to get creative and let your imagination run limitless. This initiative will engage youth and students to enhance public awareness about how to protect Earth?

Poster Made By "Gayatri Tanpure

This Poster is Submitted by Contestant “Gayatri Tanpureon the Occasion of Earth Day. Poster making competition on Earth Day 2021 organize by Thriving Boost. Its aim to provide a platform to creative mind to showcase their ability and talent in poster. You guys may also help him to win this contest. 

Poster Competition on Earth Day 2021
Name:- Gayatri Machhindra Tanpure
Age:- 14
From :- Newasa, Ahmednagar

You can also Participate, for more information click on the link given below

Poster Making Competitions on Earth Day 2021

Poster By “Siya Tanpure” on Earth Day 2021

Poster made by Siya Tanpure, on the occasion of “Earth day 2021”. It is an opportunity to get creative and let your imagination run limitless. This initiative will engage youth and students to enhance public awareness about how to protect Earth?

Poster Made By "Siya Tanpure

This Poster is Submitted by Contestant “Siya Tanpureon the Occasion of Earth Day. Poster making competition on Earth Day 2021 organize by Thriving Boost. Its aim to provide a platform to creative mind to showcase their ability and talent in poster. You guys may also help him to win this contest. 

Poster Competition on Earth Day 2021
Name:- Siya Gorakshnath Tanpure
Age:- 12
Add.:- Newasa.   Dist.:-Ahmednagar

You can also Participate, for more information click on the link given below

Poster Making Competitions on Earth Day 2021