हिन्दी कविता जीवन

।।जीवन।।

जीवन एक गणित हल करना सबको पड़ेगा।

जो ना इसे हल करे तो वो आगे कैसे बड़ेगा।।

जीवन में खुशियो को जोड़े जाते हैं,

और गम को घटाये जाते हैं,

दोस्तो को गुणा करते हैं,

और दुश्मनो को भाग दिये जाते हैं।

जो शेष फल में आता हैं,

उसी को सही माना जाता है।

जो इस सवाल को सुलझाये वही आगे बड़ेगा।।

जीवन एक गणित………………..,……………।

गणित की तरह आते हैं छोटे बड़े केचिन्ह,

जीवन में संख्या की तरह सम विषम,और अभिन्न भी होते हैं।

जीवन में। कभी करोड़ो का फल मिलता है।

तो कभीहमारा भाग्य शून्य रह जाता हैं।।

शेष फल देखकर यही जीवन है,

ऐसा सबको लगता है।।

जिसे होता है जीवन का अनुभव वही इसको समझेगा।

जीवन एक गणित ………………………………….।।

लंबाई और चौड़ाई की तरह जीवन भी लंबा चौड़ा होता है।

कभी बिंदू की तरह थम जाता है,

और कभी गोलाई की तरह घुम जाता है।

जीवन के पहलु को किलो ग्राम के तरह तौला जाता है,

तो कभी लीटर की तरह बांटकर,

मीटर की तरह नापा जाता है।

जो इस सवाल को समझे,

वही इसको हल करेगा।।

जीवन एक गणित है हल करना सबको पड़ेगा।।

कवि
फूलेन्द्री जोशी, तितिरगांव(जगदलपुर)। जिला_बस्तर (छ.ग.)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Post

हिन्दी कविता प्रतियोगिता के प्रतिभागी

पर्यावरण की गुहार | आभा सिंह की खूबसूरत रचनापर्यावरण की गुहार | आभा सिंह की खूबसूरत रचना

कविता पर्यावरण दिवस पर “आभा सिंह” की रचना “पर्यावरण की गुहार” में बहुत ही खूबसूरत तरीके से व्याख्यान किया है,

%d bloggers like this: