मानवता

हिन्दी कविता, मानवता

✧༺मानवता༻✧

 समझदार हूं इसलिए अपने आप समझ जाता हूं, 
भगवान ने इंसान को नहीं,
 इंसान ने भगवान को बनाया यही मैं सब को समझाता हूं..... 

अगर भगवान बनाता तो सिर्फ कर्म ही होता।
 यह जाति और यह धर्म न होता.... 

मानवता को मानव कुचल गया
 इज्जत की नहीं नारी की 
इसलिए आज देखनी पड़ रही है हाहाकारी महामारी की, 

चंद पैसों का लालच, क्यों गिरा गया इंसान को? 
वह मानवता भी भूल गया और भूल गया भगवान को, 

इतना गिरने के बाद भी और कितना 
अपने आप को गिराएगा;
मानव तू अब मानव बन जा आखिर कब तक
 यूं अपने आप को श्रेष्ठ दिखाएगा।

कभी इस समय को भी देख ले बंदे समय बड़ा बलवान है, 
रुलाएगा यही तुझे एक दिन क्योंकि ऊपर से देख रहा सब भगवान है..... 

 समझदार बन, तू समझ जा सारी बाते
दानव से अब तू मानव बन जा.... 

समझा रहा है जतीन तुझे अब समझ 
और तू मानव बन जा........... ।
                                       
✍जतीन चारण

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Post

हिन्दी कविता और हिन्दी साहित्य

मैं एक नारी हूँ। मंजू लोढ़ा द्वारा रचित कवितामैं एक नारी हूँ। मंजू लोढ़ा द्वारा रचित कविता

"मैं एक नारी हूँ" मंजू लोढ़ा द्वारा रचित बहुत ही अच्छी कविता है। बहुत हुआ हक और सम्मान मांगना अपनी

%d bloggers like this: