देशभक्ति कविता प्रतियोगिता, जी नागेश्वरी

देशभक्ति कविता प्रतियोगिता

हिन्दी कविता प्रतियोगिता की प्रतिभागी "जी नागेश्वरी "

15 अगस्त के उपलक्ष पर देशभक्ति कविता प्रतियोगिता चल रही है। जिसमे "जी नागेश्वरी" जी ने स्वरचित कविता "डॉ राजेन्द्र प्रसाद" के माध्यम से भाग लिया है।
अगर आप भी अपनी प्रतिभा दिखाना चाहते है तो आपका स्वागत है। ये प्रतियोगिता निशुल्क है। विजेताओं को इनाम और गिफ्ट दिए जाएंगे। भाग लेने के लिए नीचे दिए गए बटन पे क्लिक करें।

डॉ राजेन्द्र प्रसाद

पराधीनता के ज़ंजीरों से ,

किया भारत माता को आज़ाद ।

शीश झुकाकर करते रहेंगे सदैव याद,

उन अनगिनत योद्धाओं को जिसने दी अपनी क़ुर्बानी।

हैं एक योद्धा डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद उनमें ,

लिया जन्म बिहार के सिवान ज़िले में,

थे बचपन से ही बुद्धिमान और होनहार,

मिली  स्वर्ण पदक शिक्षा के क्षेत्र में ।

होकर प्रेरित  बने गांधी के अनुयायी

छोड़ परिवार को बने देश के पुजारी।

सरलता,सादगी सा था उनका जीवन,

थे आज़ाद भारत के प्रथम राष्ट्रपति ।

दिया शिक्षा के विकास पर  जोर,

मिली उनकों भारत रत्न की उपाधि ।

गणतंत्र भारत का आकार,

थे देने में एक वास्तुकार।

लिया फैसला दिया इस्तीफ़ा पद को,

चले,जनसेवा में समर्पित करने को।

चुना पटना के सदाकत आश्राम,

और लिए अपना वहाँ साँस अंतिम।

फ़रवरी २८ ,१९६३ का दिन था,

 खोया भारत और बिहार एक अनमोल हीरा को।

चट्टान सदृश्य आदर्श सपुत था,

भारत के थे प्रतीक,शत शत नमन  हैं,उस वीर कों।

       🙏🏼जय हिन्द जय भारत 🙏🏼

 *स्वरचित  –   जी नागेश्वरी
उम्र (Age) – 60
पेशा  – सेवा निवृत शिक्षिका ( झारखण्ड, जमशेदपुर )

3 thoughts on “देशभक्ति कविता प्रतियोगिता, जी नागेश्वरी”

  1. बहुत ही उम्मदा लिखा है नागेश्वरी जी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Post

हिन्दी कविता प्रतियोगिता के प्रतिभागी

देशभक्ति कविता प्रतियोगिता, मीनाक्षी कौरदेशभक्ति कविता प्रतियोगिता, मीनाक्षी कौर

देशभक्ति कविता प्रतियोगिता, स्वतंत्रता दिवस 2021 के उपलक्ष पर मीनाक्षी कौर द्वारा रचित कविता बहुत ही सराहनीय है।

%d bloggers like this: