कभी तुम चुप रहो, कभी मैं चुप रहूँ।

“कभी तुम चुप रहो, कभी मैं चुप रहूँ” मंजू लोढ़ा द्वारा रचित बहुत ही खूबसूरत रचना है। जिसमे उन्होंने प्यार के अहसास को उजागर किया है। जिसमे बातें नहीं सिर्फ एहसास होता है। प्रेम रस से भरपूर ये कविता आपको आपके प्यार की याद जरूर करवाएगी।

हिन्दी कविता और हिन्दी साहित्य

कभी तुम चुप रहो, कभी मैं चुप रहूँ।

कभी तुम चुप रहो,
कभी मैं चुप रहूँ,
कभी हम चुप रहें
खामोशियों को करने दो बातें,
यह खामोशियाँ भी बहुत कुछ कह जाती हैं,
जो हम कह न सकें वह भी कह जाती हैं।
कभी तुम चुप रहो
कभी मैं चुप रहूँ
कभी हम चुप रहें‌।
आओ आज युंही बैठे
एक-दुजे की आंखो में डुबे
उस प्यार को महसुस करे
जो जुंबा पर कभी आया ही नहीं।
कभी तुम चुप रहो
कभी मैं चुप रहूँ
कभी हम चुप रहें।
आओ हम तुम नदी किनारे
हाथों में हाथ दे चहलकदमी करें
मुद्दतों से जो सोया था एहसास
उसे तपिश की गर्माहट को महसुस करें।
कभी तुम चुप रहो
कभी मैं चुप रहूँ
कभी हम चुप रहें।
आओ आज छेडे, ऐसा कोई तराना
जो धडकनों में बस जाये
बिन गाये, बिन गुनगुनाये
संगीत की लहरियों में हम डुब जाये। कभी तुम------
चुप रहना कोई सजा नहीं
चुप रहना एक कला है,
जो बिना कहें सब कुछ कह जायें
वह प्यार तो पूजा है।
कभी तुम चुप रहो
कभी मैं चुप रहूँ
कभी हम चुप रहें।
मंजू लोढ़ा ,स्वरचित-मौलिक

Leave a Reply

Your email address will not be published.